Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Brejesh Shan Mar 23
With tears in my eyes
I am going estranged
Like white clouds in the sky dispersing
I am slowly dissolving
In a fountain of tears
I am falling everyday

My moon, I sought to follow your shadow
Why did you leave me?
My life, my soul
You burnt and threw away my love, my beautiful bear

Why did you leave me,
My life, my soul
You froze my dreams in my tears

The rain will quench the thirst of the soil
What happened to my love
I am withering, searching for a way to get back into the world you threw me out of, my beautiful bear.
Yashu Jaan Jun 2019
बेहद ख़तरनाक कविता यशु जान  

सपना देखकर अचानक उठना,
है बेहद ख़तरनाक,
ग़लती ना होते हुए भी झुकना,
है बेहद ख़तरनाक,
दुश्मन के मुँह पे हंसना,
है बेहद ख़तरनाक
बैठे - बैठे ही थकना,
है बेहद ख़तरनाक
पुलिस को देखकर छुपना,
है बेहद ख़तरनाक,
है बेहद ख़तरनाक

नेवले का सांप से सामना,
है बेहद ख़तरनाक,
दुश्मन के दुश्मन का हाथ थामना,
है बेहद ख़तरनाक,
सरकार के साथ यारी,
है बेहद ख़तरनाक
और लाइलाज बीमारी,
है बेहद ख़तरनाक,
चलते - चलते एकदम रुकना,
है बेहद ख़तरनाक,
सपना देखकर अचानक उठना,
है बेहद ख़तरनाक

रूह का बेहद तड़पना,
है बेहद ख़तरनाक,
किसी की याद में भटकना,
है बेहद ख़तरनाक,
रिश्ता नया बनाना,
है बेहद ख़तरनाक
फ़िर निभा ना पाना,
है बेहद ख़तरनाक,
अजनबी का घर में घुसना,
है बेहद ख़तरनाक,
सपना देखकर अचानक उठना,
है बेहद ख़तरनाक

इज़्ज़त को ताश मानना,
है बेहद ख़तरनाक
ख़ुद को बूज़दिल जानना,
है बेहद ख़तरनाक,
यार को घर बुलाना,
है बेहद ख़तरनाक,
घर का सदस्य बनाना,
है ख़तरनाक,
यशु जान ग़ुरबत में ठुकना,
है बेहद ख़तरनाक,
सपना देखकर अचानक उठना,
है बेहद ख़तरनाक,
ग़लती ना होते हुए भी झुकना,
है बेहद ख़तरनाक


यशु जान
यशु जान
Yashu Jaan May 2019
सरकारों के झोल

मेरा सिर झुक गया शर्म से ,
देखकर भूख से तड़पता इंसान को ,
ज़ुबान बाहर आ गई मेरे हलक से ,
ग़रीबी के हालात में देख निकलती जान को

सरकार कहती है खज़ाना ख़ाली है ,
ये कहना जनता के मुँह पे गाली है ,
मैंने तो हर चीज़ पे कर चुकाया है ,
साबुन , तेल या मेरी कमाई माया है ,
फिर भी खज़ाना इनका ख़ाली पाया है ,
कैसी समस्या घेरे है हिंदुस्तान को ,
मेरा सिर झुक गया शर्म से

सरकारी तनख़्वाह समय पर आती ,
मज़दूर की मज़दूरी घटती ही जाती ,
क्या बताऊं मिट्टी में मिल गई जवानी ,
सरकारें कर रही हैं अपनी मनमानी ,
जनता को मूर्ख समझे जनता है ज्ञानी ,
भूल गए आज़ादी के उस वरदान को ,
मेरा सिर झुक गया शर्म से

फ़िल्मी सितारे करोड़ों में कमाते भाई ,
हवाई जहाज़ों में घूमें इतनी है कमाई ,
वो बच्चा भला किसे सुनाए अपना दुखड़ा ,
चुराता पकड़ा जाये जो रोटी का टुकड़ा ,
देखने वाला होता है उसका मासूम मुखड़ा ,
कोई तो हल बता मौला यशु जान को ,
मेरा सिर झुक गया शर्म से

यशु जान ( प्रसिद्द लेखक और असाधारण विशेषज्ञ )
संपर्क : - 9115921994

यशु जान (9 फरवरी 1994-) एक पंजाबी कवि और अंतर्राष्ट्रीय लेखक हैं। वे जालंधर शहर से हैं। उनका पैतृक गाँव चक साहबू अप्प्रा शहर के पास है। उनके पिता जी का नाम रणजीत राम और माता जसविंदर कौर हैं । उन्हें बचपन से ही कला से प्यार है। उनका शौक गीत, कविता और ग़ज़ल गाना है। वे विभिन्न विषयों पर खोज करना पसंद करते हैं। उनकी कविताएं और रचनाएं बहुत रोचक और अलग होती हैं | उनकी अधिकतर रचनाएं पंजाबी और हिंदी में हैं और पंजाबी और हिंदी की अंतर्राष्ट्रीय वेबसाइट पे हैं |उनकी एक पुस्तक 'उत्तम ग़ज़लें और कविताएं' के नाम से प्रकाशित हो चुकी है | आप जे . आर . डी . एम् . नामक कंपनी में बतौर स्टेट हैड काम कर रहे है और एक असाधारण विशेषज्ञ हैं |उनको अलग बनाता है उनका अजीब शौंक जो है भूत-प्रेत से संबंदित खोजें करना,लोगों को भूत-प्रेतों से बचाना,अदृश्य शक्तियों को खोजना और भी बहुत कुछ | उन्होंने ऐसी ज्ञान साखियों को कविता में पिरोया है जिनके बारे में कभी किसी लेखक ने नहीं सोचा,सूफ़ी फ़क़ीर बाबा शेख़ फ़रीद ( गंजशकर ), राजा जनक,इन महात्माओं के ऊपर उन्होंने कविताएं लिखी हैं |
यशु जान ( प्रसिद्द लेखक और असाधारण विशेषज्ञ )
संपर्क : - 9115921994
SmArTy Jan 2018
Ky ** tum,.
Princess ** tum meri.
Jaan ** tum meri.
Har khushi ki bajah ** tum.
Meri har har baat tumse shuru hoti hai or tum pe khatam.
Mera har morng tumse start hoti hai.
Or har raat tum pr khatm.
Tumhare bin to main apni lyf imagine bhi ni kr pata.
Main to humesha k lye Sone ko bhi ready hu.
Kyoki jo(Aap) sapne me mera apna hai.
Wahi aankh khulte hi srf ek supna hai.
.
.
.
#SmArTy...
I love you
Ambika Jois Nov 2015
Tu mera dil (you are my heart),
Tu meri jaan (you are my life),
Jaan-e-jaan (the life of life)…

Here I am, awaiting rain
Awaiting a band of colours
To shimmer upon these eyes in pain
To clink into these ears disdained
To delight this mind of fears, memoirs and shame

There you are, it is you
You embody all the colours
Within the rainbow of my imagination
Within the verses of this ovation
Within the message carried in my creation

The power of doubt
Corners me, I wander about
I look at the sky for answers
When the sky’s dropped you down to sing them out

Emcompassing sheer valour
Giftwrapped by your voice so tantric
I’ve come to terms;
There is only one colour –
– The colour of music.
Sourodeep Aug 2015
Dangling earrings reflect beaming smile
like dew drops in sunshine
Your smile brings all the brightness in my life
<3 <3 <3

— The End —