Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Nandini yadav Apr 14
विदेश से एक अजीब सा मेहमान आया है
नाम उसने अपना कोरोना बताया है
देश में परेशानियों का पहाड़ बनकर
हज़ारों मुसीबत अपने साथ लाया है
हाथ मिलाकर वो लोगों को फ़साता है
दूरी बनाने से वो दूर भाग जाता है
मास्क ना पहनो तो वो खुश हो जाता है
और बार-बार हाथ धोने से वो हार जाता है
बीमारी का भय दिखाकर सबको डराता है
पीछे पड़ जाए एक बार तो बहुत सताता है
लापरवाही करे इंसान अगर तो
मौत के द्वार तक भी ले जाता है
डरना नहीं है इससे बस अब ये करना है
अपने हाथ और शरीर को साफ और स्वछ रखना है
उचित दूरी बनाएं सबसे घर से बाहर न निकलना है
लड़ रहे जो हमारे लिए उनका साथ निभाना है
नहीं करना अनदेखा इसको इसको सबक सिखाना है
बिन बुलाई इस आफ़त को
देश से बाहर भागना है,,

www.youtube.com/miniPOETRY

Corona leave us now


A strange guest has come from abroad
The name he called his corona
By becoming a mountain of problems in the country
Have brought thousands of trouble with you
By shaking hands he lures people
Distance makes him run away
He does not wear a mask
And he loses by repeated hand washing
Fear of disease scares everyone
Once again it hurts a lot
If humans careless then
Even leads to death
Don't be afraid just do it now
Keep your hands and body clean and clean
Make the right distance most don't get out of the house
Fighting for what we have to do with them
Do not ignore it, teach it a lesson
Un convened this crisis
Have to run out of the country
For more videos or poetries..Subscribe my channel
www.youtube.com/miniPOETRY
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
कोरोना का अंधकार मिटाकर
एक नया सवेरा साथ लाएगा
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
लॉकडाउन हुआ है जबसे
कैद हो गए घर में तबसे
बिछड़ गए अपनों से सारे
कोरोना के कहर से हारे
ये हार का सिलसिला जल्द खत्म हो जाएगा
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
बन्द हो गए धन्धे सारे
छूट गयी मज़दूरी
चाह कर भी न कमा पा रहे
हाय! कैसी मजबूरी
इस मजबूरी की दीवार गिरा
हर वर्ग काम पर जाएगा
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
खुल जाएंगे रास्ते सारे
सब बंधन मुक्त हो जाएंगे
हरा के फिर कोरोना को
आज़ादी का दीप जलाएंगे
बिखर गई है अर्थव्यवस्था हमारी
उसको मजबूत बनाएंगे
बिगड़े हुए इन हालातों में
सारा देश एकजुट हो जाएगा
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
करें प्रकृति को नमन आज हम
और करें ये वादा
न छेड़-छाड़ करें धरती से
न हो ऐसा इरादा
प्रकृति का साथ पाकर
हर आंगन खिल जाएगा
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
सारा देश मुस्कुराएगा..

www.youtube.com/miniPOETRY


This country will smile again


When the whole country smiles
Erasing the darkness of corona
Will bring a new dawn
The day will come again
When the whole country smiles
Lockdown since
Imprisoned at home ever since
All the people who were separated
Lost from the havoc of corona
This necklace will end soon
The day will come again
When the whole country smiles
All closed down
Missed wages
Can't earn even after wanting
Oh! What helplessness
The wall of this helplessness fell
Every class will go to work
The day will come again
When the whole country smiles
Will open all the way
All ******* will be free
Beat the corona again
Light a lamp of freedom
Our economy is shattered
Make him stronger
In these circumstances
The whole country will be united
The day will come again
When the whole country smiles
Bow to nature, today we
And make this promise
Do not disturb the earth
No such intention
With the nature
Every courtyard will bloom
The day will come again
When the whole country smiles
The whole country will smile ..
Please...Stay home and stay safe
अपना और अपने परिवार का ख्याल रखें।इस मुश्किल घड़ी में लोगों की मदद करें।lockdow को पूरी तरह से फॉलो करें।
ये कविता एक उम्मीद है एक आशा का प्रतीक है इस निराश की घड़ी में,मुझे पूरी उम्मीद है कि जल्द ही भारत और पूरा विश्व इस समस्या का समाधान खोज निकाले गा और सब कुछ पहले की तरह ठीक हो जाएगा।
जय हिंद जय भारत
My heart bleeds watching the world's distressing moments
Shame that no one can help as the world sinks
Stinking around in a mess of heartlessness and lawlessness
How did we get here to be lamed and shamed even by animals
Who can save the world?

Killings and maiming on the loose in a senseless world
A world that is destined to die in the hands of a wicked soul
Why Oh Why Am I hear the dying child cries out in vain
Pain all over him with desperation aggravated by neglect
Who can save the world?

Why save a world that is heartless with no natural affection
The monkey laughs with ego of pity for a people without soul
The lizard pounds its chest with pride of sternness
In a world full of pain without pity for a fellowman
Who can save the world?

Hopelessness in the midst of crime, hatred and selfishness
Wars, hatred, bitterness, jealousy, acrimony and prejudice
And no man cares about the other and crooked to outwit the other
What a shame that goodness and mercy are made to go on holidays
Who can save the world?

— The End —