Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Nandini yadav Apr 14
विदेश से एक अजीब सा मेहमान आया है
नाम उसने अपना कोरोना बताया है
देश में परेशानियों का पहाड़ बनकर
हज़ारों मुसीबत अपने साथ लाया है
हाथ मिलाकर वो लोगों को फ़साता है
दूरी बनाने से वो दूर भाग जाता है
मास्क ना पहनो तो वो खुश हो जाता है
और बार-बार हाथ धोने से वो हार जाता है
बीमारी का भय दिखाकर सबको डराता है
पीछे पड़ जाए एक बार तो बहुत सताता है
लापरवाही करे इंसान अगर तो
मौत के द्वार तक भी ले जाता है
डरना नहीं है इससे बस अब ये करना है
अपने हाथ और शरीर को साफ और स्वछ रखना है
उचित दूरी बनाएं सबसे घर से बाहर न निकलना है
लड़ रहे जो हमारे लिए उनका साथ निभाना है
नहीं करना अनदेखा इसको इसको सबक सिखाना है
बिन बुलाई इस आफ़त को
देश से बाहर भागना है,,

www.youtube.com/miniPOETRY

Corona leave us now


A strange guest has come from abroad
The name he called his corona
By becoming a mountain of problems in the country
Have brought thousands of trouble with you
By shaking hands he lures people
Distance makes him run away
He does not wear a mask
And he loses by repeated hand washing
Fear of disease scares everyone
Once again it hurts a lot
If humans careless then
Even leads to death
Don't be afraid just do it now
Keep your hands and body clean and clean
Make the right distance most don't get out of the house
Fighting for what we have to do with them
Do not ignore it, teach it a lesson
Un convened this crisis
Have to run out of the country
For more videos or poetries..Subscribe my channel
www.youtube.com/miniPOETRY
Nandini yadav Apr 19
चारों ओर कोहराम मचा

सारी दुनिया घबराई है

स्वर्ग सी अपनी धरती पर

ये कैसी आफ़त आयी है,,

जबसे मैंने जन्म लिया

न देखा ऐसा मंज़र है

धरती के सीने में घुसता

कोरोना रूपी खंज़र है,,

सूने हो गए गली मोहल्ले

बन्द हो गए रास्ते

घर में रुकना है अब तुमको

बस जीने के वास्ते,,

अभी समय है रोक लो खुद को

घर में ही सुरक्षित रह पाओगे

अभी नहीं संभले तो सुन लो

आगे बहुत पछताओगे

प्रकृति की गोद में पलकर

उसी को छलनी करते हैं

ज़ुर्म करते बेज़ुबानों पर

और ख़ुद की प्रसंशा करते हैं

कोरोना नहीं ये कर्मा है

तेरी हसरत गुम हो जाएगी

जब-जब बढ़ेगा ज़ुर्म तेरा

कुदरत कहर बरसाएगी

बात पते की बता रही है

सबक सिखा रही कोरोना

घायल करदे जो धरती को

तुम ऐसा काम करोना,,

तुम ऐसा काम करोना,,

www.youtube.Com/miniPOETRY

Corona or Karma!

There was chaos all around

The whole world is terrified

Heaven on earth

What a tragedy this is,

Since i was born

Neither seen it

Enters the chest of the earth

There is a dagger like corona,

Gone neighborhoods are listened

Closed roads

You have to stay home now

Just to live,

It's time to stop yourself

Will you be safe at home

Listen now if you don't

You will regret so much

In the lap of nature

Sieve the same

At foul play

And treat themselves

This is not corona

Your beauty will be lost

Whenever you will increase crime

Nature will wreak havoc

Talking of address

Corona is teaching a lesson

Hurt the earth

You do such a thing,

You do such a thing ,,
Hello friends, to listen my other poems please subscribe my youtube channel miniPOETRY
www.youtube.com/miniPOETRY
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
कोरोना का अंधकार मिटाकर
एक नया सवेरा साथ लाएगा
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
लॉकडाउन हुआ है जबसे
कैद हो गए घर में तबसे
बिछड़ गए अपनों से सारे
कोरोना के कहर से हारे
ये हार का सिलसिला जल्द खत्म हो जाएगा
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
बन्द हो गए धन्धे सारे
छूट गयी मज़दूरी
चाह कर भी न कमा पा रहे
हाय! कैसी मजबूरी
इस मजबूरी की दीवार गिरा
हर वर्ग काम पर जाएगा
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
खुल जाएंगे रास्ते सारे
सब बंधन मुक्त हो जाएंगे
हरा के फिर कोरोना को
आज़ादी का दीप जलाएंगे
बिखर गई है अर्थव्यवस्था हमारी
उसको मजबूत बनाएंगे
बिगड़े हुए इन हालातों में
सारा देश एकजुट हो जाएगा
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
करें प्रकृति को नमन आज हम
और करें ये वादा
न छेड़-छाड़ करें धरती से
न हो ऐसा इरादा
प्रकृति का साथ पाकर
हर आंगन खिल जाएगा
फ़िर से वो दिन आएगा
जब सारा देश मुस्कुराएगा
सारा देश मुस्कुराएगा..

www.youtube.com/miniPOETRY


This country will smile again


When the whole country smiles
Erasing the darkness of corona
Will bring a new dawn
The day will come again
When the whole country smiles
Lockdown since
Imprisoned at home ever since
All the people who were separated
Lost from the havoc of corona
This necklace will end soon
The day will come again
When the whole country smiles
All closed down
Missed wages
Can't earn even after wanting
Oh! What helplessness
The wall of this helplessness fell
Every class will go to work
The day will come again
When the whole country smiles
Will open all the way
All ******* will be free
Beat the corona again
Light a lamp of freedom
Our economy is shattered
Make him stronger
In these circumstances
The whole country will be united
The day will come again
When the whole country smiles
Bow to nature, today we
And make this promise
Do not disturb the earth
No such intention
With the nature
Every courtyard will bloom
The day will come again
When the whole country smiles
The whole country will smile ..
Please...Stay home and stay safe
अपना और अपने परिवार का ख्याल रखें।इस मुश्किल घड़ी में लोगों की मदद करें।lockdow को पूरी तरह से फॉलो करें।
ये कविता एक उम्मीद है एक आशा का प्रतीक है इस निराश की घड़ी में,मुझे पूरी उम्मीद है कि जल्द ही भारत और पूरा विश्व इस समस्या का समाधान खोज निकाले गा और सब कुछ पहले की तरह ठीक हो जाएगा।
जय हिंद जय भारत
Stephen James Mar 2019
the lord confronted—
strikes with aimed ferocity
the shogun repels
a haiku
Riley Cartwright Dec 2018
Για νεκρούς στρατιώτες
Ρίξαμε τα όπλα μας
Σταματάμε να παλεύουμε
Αυτή τη στιγμή της μνήμης
Είναι μαζί μας
Αγωνίζονται μαζί μας
Έχω δει τις μητέρες μας
Πλήρη δάκρυα
Είναι τόσο γρήγορο
Πού πήγαν εκείνα τα χρόνια;
Οι μνήμες δεν θα τους αφήσουν να κλάψουν
Μόνο αν δεν επιστρέψω απόψε
For Fallen Soldiers
Verdant Quo Nov 2018
I carry a white noodle bowl,
carefully up to my chin.
I smile as my nose catches,
the steam so grey and thin.

I set the bowl down gently,
Because it was too hot.
and take this time to ponder,
The noodles I have got.

A small carrot captain,
rides his vessel south.
But the spoony seas are violent,
and bring him to my mouth.

Legions of green sprouts,
are armed and at the ready.
But their base was built on broth,
and therefore is unsteady.

A scallion sergeant paces,
He’s timid and afraid.
And hopelessly fell in love with,
A mushroom mermaid.

The brothy land changes,
As beef enters the scene.
And to the broccoli scouts,
this meat is only mean.

Finally the egg,
who knows he’s the best.
Will wander around the edges,
till he decides to rest.

The dinner’s duty done
I tilt the ocean east
And drain the sea of veggies
into the belly of the beast

I take the styrofoam bowl.
And poke a hole in its side.
The bowl is now found empty
All my friends have died.
Next page