Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Megha Thakur Aug 21
मेरे पास छोड़ जाओ,
अपनी खुशबू, अपनी बाते।
उन्हें सम्भाल कर रखूंगी मैं,
चाहे दिन हो या हो रातें।
- मेघा ठाकुर
Megha Thakur Aug 14
कभी चाहते थे,
तुम्हें ना खोना।

अभी चाहते हैं,
की काश तुम हमे कभी मिले ही ना होते।
-मेघा ठाकुर
Megha Thakur Aug 12
For me, writing is
Expressing anything and everything in my own way....
With my heart and soul....
Without any manipulation....
Like the sun came up every morning with a new energy and his ray....
-Megha Thakur
Megha Thakur Aug 9
How hard it is,
To find peace.
Simple, as much as,
Feeling the fresh breeze.
-Megha Thakur
Megha Thakur Aug 8
Everybody has their own flaws,
And it makes them glow.
So stop judging yourself,
And just go with the flow.
-Megha Thakur
Megha Thakur Aug 7
मन काग़ज़ की नाव,
जज़्बातों के समन्दर में बस बहें जा रहा है।
जो ये थम गया तो हैं डूब जाने का डर,
फिर भी ये आगे बढे जा रहा हैं।
-मेघा ठाकुर
Megha Thakur Aug 5
कुछ कहानियाँ,
कहानियाँ ही रह जाती हैं।
न वो अधूरी होती हैं,
न वो कभी पूरी हो पाती हैं।
वो अक्सर लोगों को,
समझ नहीं आती हैं।
पर फिर भी ये कहानियाँ,
लोगों को करीब लाती हैं।
-मेघा ठाकुर
Next page