Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Megha Thakur Aug 9
How hard it is,
To find peace.
Simple, as much as,
Feeling the fresh breeze.
-Megha Thakur
Megha Thakur Jun 16
ये आँखे आत्मा का दरपन है,
बिन बोले सब बयान कर देती है।

छिपाती नहीं कुछ भी ये,
इंसान का हर राज़ बतादेती है।

झूठ इनकी फ़ितरत में नहीं,
ये तों सच का साथ ही देती है।

झाँकना हो किसीकी मन में तों,
रास्ता भी यहीं बतादेती है।
-मेघा ठाकुर

— The End —