Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Apr 2
लॉकडाउन हो गया देश में
संकट बड़ा ही भारी है
जब बन्द हो गए सभी घरों में
तब कुछ सेवाएं ज़ारी हैं
बन्द हो गए मंदिर सारे
लोगों के मन मुरझाये हैं
अस्पतालों में देखा हमने
भगवान निकल कर आये हैं,
खुद की परवाह किये बिना
दिन रात जो सेवा करते हैं
देकर नई जिंदगी हमको
खुद रोज़ मौत से लड़ते हैं
मुश्किल भारी इस घड़ी में
कोरोना जैसे रावण है
कोरोना की कमर तोड़ने
आया पुलिस प्रसाशन है
घर परिवार को छोड़ कर अपने
गली सड़कों पर खड़े हुए
न घुसने देंगे कोरोना को
इस बात पर सब डटे हुए
दोस्तों ये समय है ऐसा
हम सबको साथ आना है
बेवज़ह घर से न निकलकर
कोरोना को सफल बनाना है।

www.youtube.com/POETRY

Protector of the country


..Lockdown in the country
The crisis is too heavy
When all the houses were closed
Then some services are released
Temple closed
People's minds are withering
We saw in hospitals
God has come out,
Regardless of myself
Those who serve day and night
Giving us new life
Fight yourself to the death every day
Hard heavy in this hour
Corona is like Ravana
Corona's back break
Aaya is a police officer
Leaving home family
Street standing
Will not allow corona
All set to the point
This is the time friends
We all have to come together
Not needlessly leaving the house
Corona has to succeed.
दोस्तों अब आप मुझसे जुड़े रह सकते हैं मेरे custom url के साथ
www.youtube.com/miniPOETRY
Nandini yadav
Written by
Nandini yadav  26/F/India
(26/F/India)   
689
 
Please log in to view and add comments on poems