Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Jan 2019
मौत के तूफानों में,
                      रोशनी के आखिरी दिये-सी,
                          आखिरी पल तक जलती
                                      -जिंदगी!

   अपने आंचल में मौत की सेज सजाती शमाओ पर,
                      परवाने- सी मंडराती
                                      -जिंदगी!

     मौत की अंधियारी रात में,
                      सितारो-सी जंग लड़ती
                                      -जिंदगी!

वो दिया ही क्या,
                  जो तूफानों से घबराए,
वो परवाना ही क्या,
                 जो शमा में राख न हो पाए,
वो सितारा ही क्या,
                जो रात से डर कर सुबह की रोशनी में खो
                 जाए,
वो जिंदगी ही क्या,
                 जो डर के आंचल में समाकर,
                 हर पल सौ मौतें मर कर जी जाए!

डर के परदे से निकलकर,
मौत की भट्टी से गुज़र कर,
               सोने-सी दमकती
                                         -जिंदगी!!!!
I think life means livliness, merely breathing isn't life! Life never means to run away from death, but life means to welcome  everything that comes!!!
Shruti Dadhich
Written by
Shruti Dadhich  18/F/India
(18/F/India)   
  591
         Smiling Queen, Sagar, ---, Jim Musics, Badshah Khan and 13 others
Please log in to view and add comments on poems