Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Jun 2017
मेरे दर्द की दवा हो तुम,
रब से मांगी दुआ हो तुम,
दिल में छिपा है प्यार जो तेरे लिए,
होठों से निकली वो ज़ुबा हो तुम,

नजाने किस मिटटी की बनी हो तुम,
मुस्कान और प्यार की धनी हो तुम,
जो हमेशा यु ही खिला रहे,
ओ फूल की कली हो तुम,

मेरे होठों की मुस्कान हो तुम,
मेरे जिस्म की जान हो तुम,
मेरी खुशिया जिसमे बसती है,
खुशियो की वो जहाँ हो तुम,



Mere dard Ki dwa ** tum,
rab se mangi dua ** tum,
Dil me chhupa hai pyar Jo tere liye,
Othon se nikli Wo zuba ** tum,

Najane kis mitti se bani ** tum,
Muskan aur pyar Ki dhani ** tum,
Jo hamesha yuhi khila rahe,
Wo phool Ki Kali ** tum,

Mere hothon Ki muskan ** tum,
Mere **** Ki jaan ** tum,
Meri khushiya jisme basti hai,
khushiyo Ki wo jahan ** tum,
Shrivastva MK
Written by
Shrivastva MK  23/M/INDIA
(23/M/INDIA)   
3.3k
       ---, --- and Shrivastva MK
Please log in to view and add comments on poems