Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Mar 2015
बेटी हूँ तो मिटा दिया |

क्या थी मेरी गलती माँ,
जो तूने मुझे मिटा दिया,
अपनी ही हांथो से तूने,
आँचल अपना हटा दिया,

देेख न पायी मैं तेरी सूरत ,
कैसी थी माँ तेरी मूरत,
चली गई मैं यहाँ से रोवत,
कैसी थी माँ पापा की सूरत |

बेटी हूँ मैं इसी लिए क्या ,
हाथ अपना हटा लिया ?
क्या थी मेरी गलती माँ,
जो तूने मुझे मिटा दिया ?

यह दुनिया देखने से पहले,
क्यो तूने मुझे सुला दिया,
क्या थी मेरी गलती माँ,
जो इतना बड़ा सजा दिया?

" बेटी है तो क्या हुआ,ये है आँखों का नूर  |
जीने का अद्दिकार छीन कर करो न इनको दूर |"

                                                    संदीप कुमार सिंह |
                                       ( हिंदी विभाग, तेज़पुर विश्वविधयालय )
                                               मो.नॉ. +918471910640
Sandeep kumar singh
Written by
Sandeep kumar singh  Nagaon, Assam
(Nagaon, Assam)   
719
 
Please log in to view and add comments on poems