Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Mar 2020
हम लाए नए जीवन को और कराए स्तनपान
हम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समान

हम किसी आदमी से अब डरना नहीं चाहते
हम अपनी मां के गर्भ में अब मरना नहीं चाहते
हम भी करना चाहेंगे अपने खर्चों का भुगतान
हम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समान

हम भी आगे बढ़ेंगे तो काम आगे बढ़ेगा
हम आपके साथ मिल जाए तो देश का नाम आगे बढ़ेगा
हम थाम सकते हैं और थामते हैं घर - बार की कमान
हम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समान

हम हैं अंदर से सख़्त, और बाहर से नरम
हमको कलेशकर्णी समझना है आपका सबसे बड़ा भरम
हम उड़ना चाहते हैं, हम चाहे आधा आसमान
हम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समान

सरस्वती लक्ष्मी न मानो, न मानो हमको काली
आपकी घर में रहकर न डरे, आपकी अपनी घरवाली
न हमको हीन समझो, न हमको समझो महान
हम हैं नारी शक्ति और हम चाहे हक समान
Sohamkumar Chauhan
Written by
Sohamkumar Chauhan  23/M/Vasco da Gama, Goa
(23/M/Vasco da Gama, Goa)   
57
 
Please log in to view and add comments on poems