Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Jan 2013
'ना आना इस  देश मेरी लाडो ....'

(यकीन मानो इस चेतावनी की इस देश में कोई जरुरत नहीं है । )
लाडो तुम्हें इस देश में आने  ही कौन देगा ?
आधुनिक यंत्रों से लेस मनुष्य  (राक्षस) तुम्हे  गर्भ में ही रोक देगा,
जन्म ले भी लिया तो किसी ऊँची ईमारत से निचे फेंक देगा ।
लाडो जरा संभल  कर ,
ना जाने कौन भेड़िया तुम्हे लूट सड़क के किनारे पटक देगा।
लाडो मान लो मेरी बात ,
आज जो पुरुष तुम्हे आन्दोलन करते नज़र आ रहे हैं,
कालांतर में तुझ लूटी -पिटी को अपनाने एक नहीं आएगा।
ना आना इस  देश मेरी लाडो,
तेरे आने पर तो तेरा जनक भी पछताएगा ,
इस कलयुग में जब पिता- भाई तक आबरु छीनने में लगे हैं ,
कौन यहाँ तेरा संरक्षक बन पाएगा ।
ना आना इस  देश मेरी लाडो,
तेरा यह हाल इस भावुक हिमानी से और  ना देखा जायेगा ।

- हिमानी वशिष्ठ
Female Infanticide, ****
Himani Vashishta
Written by
Himani Vashishta  Jaipur
(Jaipur)   
798
   Äŧül and Maddy Tidrick
Please log in to view and add comments on poems