Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Mar 2021
उसकी हसरत है जिसे दिल से मिटा भी न सकूं
ढूंढने उस को चली हूँ जिसे पा भी न सकूं.....!!
बेवफा लिखते हैं वो अपने कलम से मुझको
ये वो किस्मत का लिखा है जो मिटा भी न सकूँ...!!
Krishna verma
Written by
Krishna verma  18/F/Shivpuri (M.P.)
(18/F/Shivpuri (M.P.))   
90
 
Please log in to view and add comments on poems