Submit your work, meet writers and drop the ads. Become a member
Sep 26
ऐसा भी नहीं की कोई नया इश्क़ हुआ है..
न ही मिली किसी हुस्नवाली से muuaaah है..
न ही याद आया की ज़िन्दगी तो एक जुवा है..
बस एक आरसे के बाद आज दारु को छुआ है..
Sagar
Written by
Sagar  24/M
(24/M)   
171
 
Please log in to view and add comments on poems